Sunday, October 30, 2016

लो आ गयी दीपावली



घर घर दीप जले
खुशियों के तीर चले
आशा , उमंग की बाती
संग खेले, आती पाती

फिर से वही रात आयी
एक नयी सौगात लायी
टिमटिमाती , खिलखिलाती,
लारियों की बरात लायी












नगर नगर, सजे हुए
हाट हाट, छने पुए
गली गली ,हुरदंग मची
मस्ती के भरे कुए

लो आ गयी दीपावली
अल्हड़ और बावली
लो आ गयी दीपावली
शर्मीली, सावरी
           
           -सिद्धार्थ श्रीवास्तव


Saturday, October 8, 2016

एक खूबसूरत शाम

   एक खूबसूरत शाम 

  ज़िन्दगी की शाम बड़ी खूबसूरत है,
  जिसमे दिखती कोई सूरत है,
  बैठ के देखता रहा गौर से, इत्मीनान से ,
  तो लगा जैसे शायद यही मेरी जरुरत है ,

  शहर की गालियाँ, दर दर भटकाती रही
  बेफिक्र, नादान ख्वाहिशें , उठती रही
  कभी नींद में चलाती रही,
  और कभी नींद से जगाती रही,                                                        




                    







   आज याद आती है वो चौपाल
   जहां लगती थी कभी मजलिस,और लगते थे मज़मे ,
   यारो की गालियां भी क्या शौक से लेते ,
   और दुहराए जाते कुछ बेसुरे नगमे

   चल देता हूँ आज फिर, शाम तुझे अकेला छोड़ के
   रात के  फैलते दामन से, धुंधले  तारे कुछ तोड़ के,
   मिलूंगा तुझसे कल  इसी जगह वापिस,
   सुनाऊंगा तुझे कुछ किस्से कच्चे रस्तों  के
    कल फिर सुनूँगा तुझसे कुछ कहकहे पुरानी मोड़ के

                                                                          - सिद्धार्थ श्रीवास्तव 

आँगन का कुआं

सालों गुजर गए , आज  वापस  गाँव  की  तरफ  पहुंचा आँगन से   गुजरते , कुँए  पे  नज़र  अटकी , ऐसा  लगा  मानो , मुझे  टकटकी  लगा  के  देख  र...