Sunday, October 30, 2016

लो आ गयी दीपावली



घर घर दीप जले
खुशियों के तीर चले
आशा , उमंग की बाती
संग खेले, आती पाती

फिर से वही रात आयी
एक नयी सौगात लायी
टिमटिमाती , खिलखिलाती,
लारियों की बरात लायी












नगर नगर, सजे हुए
हाट हाट, छने पुए
गली गली ,हुरदंग मची
मस्ती के भरे कुए

लो आ गयी दीपावली
अल्हड़ और बावली
लो आ गयी दीपावली
शर्मीली, सावरी
           
           -सिद्धार्थ श्रीवास्तव


2 comments:

आँगन का कुआं

सालों गुजर गए , आज  वापस  गाँव  की  तरफ  पहुंचा आँगन से   गुजरते , कुँए  पे  नज़र  अटकी , ऐसा  लगा  मानो , मुझे  टकटकी  लगा  के  देख  र...