Saturday, July 11, 2015

कौन है कलाकार?

कौन है कलाकार?

अपने सपनो को जो करना चाहता है साकार
आसान राहों को छोड़ जो जीवन से करे साक्छात्कार
वो ही है कलाकार

ह्रदय की कंपन
और बहती भावनाओं  को जो दे आकार
कला से जो प्रेम करे बिना त्रुटि ,बिना विकार
वो ही है कलाकार

हर पल मुस्कुराये वो
दुःख भी गा कर सुनाये जो
परिस्थितियों से जिसने मानी नहीं हार
तालियों की गूंज से सजा मंच ही  जिसका संसार
वो ही है कलाकार





































पात्रो को जिवंत करता
कोरे मखमल में रंग भरता
नई सृष्टि की रचना करता
संगीत से जोड़े  टूटे तार
वो ही है कलाकार

कौन है कलाकार ?

एक कलाकार वो भी है
जिसने इस जग को बुना
हाड मांस को जीवन देकर
अपना माध्यम हमें चुना
हम उसी की  कला का हिस्सा हैं,
और वो है हमारा कलाकार

लेखक-सिद्धार्थ श्रीवास्तव (सिद्धू)
चित्र- सूरजो ( प्रोफेशनल संगीत कलाकार एंड परफ़ॉर्मर )


Sunday, July 5, 2015

अश्क

 अश्क

अश्क  बोलते  है ,
कुछ  टटोलते  है ,
गम  में  डोलते  है ,
और  ख़ुशी  भी  तोलते है
जाने  कहा  रहते  है ,
की   ये  बात  नहीं  मानते
जाने  क्यों  बहते  है ,
ये  वजूद  भी  नहीं  जानते
मन  की  गहराई  से ,
दिल  की  तन्हाई  से ,
है  क्या  इनका  रिश्ता
जिंदगी  की  राहों में
गिरे  किसी  अपनों  की  बाँहों  में
आहिस्ता  आहिस्ता
सपनो  के  बिखरने  से
बिखरते  है  ये  भी
उमंगो     मचलने  से
मचलते  है  ये  भी ,
कभी  सावन  बन  कर
दरिया  बनाते  है,
कभी  आते  नही  बुलाने से भी
शायद  कही  छुप जाते  है




























शरमाते  है  ये  ,
भीड़  में  आने  से ,
बेफिक्र  निकलते  है  बेपरवाह  यूँ ही ,
बेपर्दा  हो  ज़माने  से
पर  गुज़ारिश  है  इनकी ,
आँखों  में  हो  आशियाना
ख्वाहिश  में  इनकी ,
ना कोई  ठौर  ,ना  कोई  ठिकाना
सुन  सको  तो  सुन  लो
इनकी  दबी  हुई  आहट
कही  नफरत  का  अफ़साना  हैं .
कही  बेहिसाब  चाहत
अश्क   है  ये  बड़े   अज़ीज़
इन्हे महज  पानी ना मान  लेना ,
इंसान  के  हो  या  फ़रिश्ते के
इनकी एहमियत  जान  लेना



-सिद्धार्थ श्रीवास्तव ( सिद्धू)

आँगन का कुआं

सालों गुजर गए , आज  वापस  गाँव  की  तरफ  पहुंचा आँगन से   गुजरते , कुँए  पे  नज़र  अटकी , ऐसा  लगा  मानो , मुझे  टकटकी  लगा  के  देख  र...